Homeरायपुर : छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह को मिला राष्ट्रीय सम्मान एग्रीकल्चर प्रोग्राम लीडरशिप अवार्ड 2013

Secondary links

Search

रायपुर : छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह को मिला राष्ट्रीय सम्मान एग्रीकल्चर प्रोग्राम लीडरशिप अवार्ड 2013

Printer-friendly versionSend to friend

रायपुर, 20 सितम्बर 2013

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह को राज्य में खेती-किसानी के क्षेत्र के विकास के लिए बेहतर नीतियों के निर्माण, और कृषि संबंधी योजनाओं के बेहतरीन क्रियान्वयन के लिए आज नई दिल्ली में आयोजित समारोह में एग्रीकल्चर प्रोग्राम लीडरशिप के राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया। प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह के आज छत्तीसगढ़ दौरे की व्यस्तताओं के कारण मुख्यमंत्री नई दिल्ली के ताज पैलेस होटल में आयोजित इस अवार्ड समारोह में शामिल नहीं हो पाए, लेकिन आयोजकों की ओर से यह घोषणा की गयी कि डॉ. रमन सिंह को यह प्रतिष्ठित सम्मान वे स्वयं रायपुर (छत्तीसगढ़) जाकर भेंट करेंगे। प्रसिद्ध कृषि वैज्ञानिक डॉ. स्वामीनाथन की अध्यक्षता वाली चयन समिति ने डॉ. रमन सिंह का चयन इस अवार्ड के लिए चयनित किया था। यह सम्मान कृषि क्षेत्र की प्रतिष्ठित पत्रिका एग्रीकल्चर टुडे द्वारा प्रदान किया गया है। उत्तर प्रदेश के राज्यपाल श्री बी.एल.जोशी और केन्द्रीय कृषि राज्य मंत्री श्री तारिक अनवर ने विभिन्न वर्गो में अवार्ड विजेताओं को सम्मानित किया।
  आज के समारोह में मुख्यमंत्री का प्रतिनिधित्व छत्तीसगढ़ भवन नई दिल्ली की आवासीय आयुक्त श्रीमती व्ही.बी. उमादेवी ने किया। इस अवसर पर पंजाब के मुख्यमंत्री श्री प्रकाश सिंह बादल भी उपस्थित थे, जिन्हें इस प्रतिष्ठित राष्ट्रीय पुरस्कार के अन्तर्गत पालिसी लीडरशिप एवार्ड से नवाजा गया। उनके अलावा समारोह में राष्ट्रीय डेयरी अनुसंधान संस्थान को रिसर्च लीडरशिप, केन्द्रीय मछली पालन संस्थान को एकेडेमिक लीडरशिप, इंडियन ओव्हरसीज बैंक को डेव्हलपमेंट लीडरशिप, महाराष्ट्र को स्टेट हार्टिकल्चर लीडरशिप और तमिलनाडू को स्टेट लीडरशिप अवार्ड से सम्मानित किया गया। नेशनल डेयरी डेव्हलपमेंट बोर्ड की अध्यक्ष डॉ. अमृता पटेल को लाईफ टाईम अचीवमेंट अवार्ड से सम्मानित किया गया।
 उल्लेखनीय है कि डॉ. रमन सिंह के नेतृत्व में छत्तीसगढ़ ने कृशि विकास और किसानों की बेहतरी के लिए कई उल्लेखनीय कार्य किए हैं। उनके नेतृत्व में राज्य की कृशि विकास दर राश्ट्रीय औसत से दोगुनी यानी 6.5 प्रतिशत तक पहुंच गयी है। किसानों को खेती की बढ़ती लागत से राहत दिलाने के लिए राज्य सरकार उन्हें केवल एक प्रतिशत ब्याज पर ऋण सुविधा और पांच हार्स पावर तक सिंचाई पम्पों को सालाना साढ़े सात हजार यूनिट बिजली निःशुल्क दे रही है। इन योजनाओं के फलस्वरूप छत्तीसगढ़ धान के उत्पादन में भी लगातार कीर्तिमान बना रहा है। डॉ. रमन सिंह ने राज्य के किसानों को उनकी उपज का उचित मूल्य दिलाने के लिए सहकारी समितियों में धान खरीदी की सर्वोत्तम व्यवस्था की है और इस व्यवस्था को सूचना प्रौद्योगिकी से जोड़कर ऑन लाईन भी कर दिया है। पिछले साल खरीफ में 71 लाख मीटरिक टन से ज्यादा धान खरीद कर किसानों को लगभग नौ हजार करोड़ रूपए के समर्थन मूल्य और 270 रूपए प्रति क्विंटल की दर से करीब 1 हजार 926 करोड़ रूपए का बोनस भी दिया गया। डॉ. रमन सिंह की किसान हितैशी नीतियों, योजनाओं तथा उपलब्धियों का मूल्यांकन करते हुए उन्हें एग्रीकल्चर लीडरशिप एवार्ड से सम्मानित किया जा रहा है।

क्रमांक-2449/स्वराज्य

Date: 
20 Sep 2013