Homeरायपुर : स्वच्छ भारत मिशन: प्रधानमंत्री आज सम्मानित करेंगे छत्तीसगढ़ के दो जिलों और पन्द्रह विकासखंडों को

Secondary links

Search

रायपुर : स्वच्छ भारत मिशन: प्रधानमंत्री आज सम्मानित करेंगे छत्तीसगढ़ के दो जिलों और पन्द्रह विकासखंडों को

Printer-friendly versionSend to friend

रायपुर, 31 अक्टूबर 2016

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी छत्तीसगढ़ राज्य के तीसरे प्रवास के दौरान नया रायपुर में कल एक नवम्बर को राज्य स्थापना दिवस पर दोपहर एक बजे पांच दिवसीय राज्योत्सव का शुभारंभ करेंगे। वे इस अवसर पर मुख्य समारोह में स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के तहत छत्तीसगढ़ के मुंगेली और धमतरी जिलों के साथ-साथ विभिन्न जिलों के पन्द्रह विकासखण्डों (जनपद पंचायतों) को खुले में शौच मुक्त घोषित करते हुए सम्मानित करेंगे। दोनों जिलों के जिला पंचायत अध्यक्ष, कलेक्टर और जिला पंचायतों के मुख्य कार्यपालन अधिकारी प्रधानमंत्री के हाथों अपने जिलों के लिए यह सम्मान ग्रहण करेंगे। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने इस उपलब्धि के लिए दोनों जिलों और संबंधित विकासखंडों के ग्रामीणों तथा स्वच्छ भारत मिशन से जुड़े सभी लोगों को बधाई दी।
प्रधानमंत्री के हाथों एक नवम्बर के राज्योत्सव समारोह में खुले में शौच मुक्त घोषित जनपद पंचायतों के अध्यक्षों को भी सम्मानित किया जाएगा। सम्मानित होने वाले विकासखण्डों में गौरेला, पाटन, कटघोरा, मुंगेली, पथरिया, लोरमी, मानपुर, खैरागढ़, गीदम, कांसाबेल, नगरी, धमतरी, राजनांदगांव, मस्तुरी और कवर्धा शामिल हैं। इन्हें मिलाकर राज्य में खुले में शौचमुक्त विकासखंडों की संख्या 33 हो जाएगी। अब तक प्रदेश में 4138 ग्राम पंचायतों के 7459 गांव खुले में शौच मुक्त घोषित हो चुके हैं। इनमें वित्तीय वर्ष 2016-17 में कुल 13.24 लाख शौचालयों का निर्माण किया जा चुका है।
उल्लेखनीय है कि स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के अन्तर्गत राज्य में समुदाय संचालित सम्पूर्ण स्वच्छता अभियान के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को स्वच्छता के लिए प्रेरित किया जा रहा है। ग्राम के लोग खुले में शौच की प्रथा का अंत करने के लिए प्रतिबद्ध हो रहे हैं। प्रधानमंत्री ने इस वर्ष 21 फरवरी को राजनांदगांव जिले के अंबागढ़ चौकी और छुरिया विकासखण्ड को ओ.डी.एफ. घोषित कर सम्मानित किया था। इसके मात्र 8 माह बाद प्रदेश के 02 जिले और 33 विकासखण्ड आज खुले में शौच मुक्त होंगे। स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) की शुरूआत 02 अक्टूबर 2014 को पूरे देश को खुले में शौच की प्रथा से मुक्त करने के उद्देश्य से की गयी है। स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के क्रियान्वयन के लिए 25 नवम्बर 2014 से नोडल विभाग लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के स्थान पर पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग को बनाया गया है। उस समय संपूर्ण प्रदेश में मात्र 20 ग्राम ही खुले में शौच मुक्त थे।
छत्तीसगढ़ राज्य ने दिसम्बर 2018 तक सभी गांवों को खुले में शौच की प्रथा से मुक्त करने का लक्ष्य निर्धारित किया है। अधिकारियों ने बताया कि गांधी जयंती 02 अक्टूबर 2014 से अब तक प्रदेश में 13.38 लाख शौचालयों का निर्माण हो चुका है। इसके फलस्वरूप प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में स्वच्छता कव्हरेज 69.79 प्रतिशत तक पहुंच गया है। राज्य में आज स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) एक जन आंदोलन का रूप ले चुका है। जल्द ही संपूर्ण राज्य में शौच की कु-प्रथा का अंत करने में सफलता मिलेगी।

 

क्रमांक-3758/स्वराज्य

Date: 
31 Oct 2016